आप यहाँ हैं
होम > 2017 > November

सयानी बुआ -मन्नू भंडारी

सब पर मानो बुआजी का व्यक्तित्व हावी है। सारा काम वहाँ इतनी व्यवस्था से होता जैसे सब मशीनें हों, जो कायदे में बँधीं, बिना रुकावट अपना काम किए चली जा रही हैं। ठीक पाँच बजे सब लोग उठ जाते, फिर एक घंटा बाहर मैदान में टहलना होता, उसके बाद चाय-दूध होता।उसके बाद अन्नू को पढने के लिए बैठना होता। भाई साहब भी तब अखबार और ऑफिस की फाइलें आदि देखा करते। नौ बजते ही नहाना शुरू होता। जो कपडे बुआजी निकाल दें, वही पहनने होते। फिर कायदे से आकर मेज पर बैठ जाओ और खाकर काम पर जाओ।सयानी बुआ का नाम वास्तव में ही सयानी था या उनके सयानेपन को देखकर लोग उन्हें सयानी कहने लगे थे, सो तो मैं आज भी नहीं जानती, पर इतना अवश्य कँगी कि जिसने भी उनका यह नाम रखा, वह नामकरण विद्या का अवश्य पारखी रहा होगा।बचपन में ही वे समय की जितनी पाबंद

देवनागरी लिपि : नामकरण और विकास

देवनागरी लिपि का उद्गम प्राचीन भारतीय लिपि ब्राह्मी से माना जाता है. 7वीं शताब्दी से नागरी के प्रयोग के प्रमाण मिलने लगते हैं.'नागरी' शब्द की उत्पत्ति के विषय में विद्वानों में काफी मतभेद है। कुछ लोगों के अनुसार यह नाम  'नगरों में व्यवहत' होने के कारण दिया गया. इससे अलग कुछ लोगों का मानना है कि गुजरात के नागर ब्रह्मणों के कारण यह नाम पड़ा। गुजरात में सबसे पुराना प्रामाणिक लेख, जिसमें नागरी अक्षर भी हैं, जयभट तृतीय का कलचुरि (चेदि) संवत् 456 (ई० स० 706) का ताम्रपत्र है। गुजरात में जितने दानपत्र नागरी लिपि में मिले हैं वे बहुधा कान्यकुब्ज, पाटलि, पुंड्रवर्धन आदि से लिए हुए ब्राह्मणों को ही प्रदत्त हैं। राष्ट्रकूट (राठौड़) राजाओं के प्रभाव से गुजरात में उत्तर भारतीय लिपि विशेष रूप से प्रचलित हुई और नागर ब्राह्मणों के द्वारा व्यबह्वत होने के कारण वहाँ नागरी कहलाई।शामशास्त्री के अनुसार,प्राचीन समय में प्रतिमा बनने के पूर्व देवताओं की

भाषा और लिपि

भाषा : भाषा उस यादृच्छिक1, रूढ़2 ध्वनि प्रतीकों की व्यवस्था को कहते हैं  , जिसके माध्यम से मनुष्य परस्पर विचार विनिमय करता है. यह समाज का एक अलिखित समझौता है.लिपि:- लिपि उस यादृच्छिक, रूढ़ , वर्ण प्रतीको की व्यवस्था को कहते हैं , जिसके माध्यय से भाषा को लिखित रूप दिया जाता है. भाषा और लिपि में  अनिवार्य सम्बंध नहीं है. लाखों वर्षों तक भाषा बिना लिपि के ही रही है.भाषा और लिपि में अंतर:-क)     भाषा सूक्ष्म होती है, लिपि स्थूलख)   भाषा में अपेक्षाकृत अस्थायित्व होता है, क्योंकि भाषा उच्चरित होते ही गायब हो जाती है. लिपि में अपेक्षाकृत स्थायित्व होता है.ग)     भाषा ध्वन्यात्मक होती है, लिपि दृश्यात्मक.घ)     भाषा सद्य प्रभावकारी होती है, लिपि किंचित विलंब सेङ)     भाषा ध्वनि संकेतों की व्यवस्था है, लिपि वर्ण- संकेतों की.च)    भाषा में सुर, अनुतान आदि की अभिव्यक्ति हो सकती है, लिपि में नहीं.समानताःक)    भाषा और लिपि दोनों भावाभिव्यक्ति का माध्यम हैं.ख)   दोनों सभ्यता के विकास के साथ अस्तित्व में आईं.ग)     दोनों का विशेष ज्ञान शिक्षा आदि के जरिए संभव है.घ)     दोनों के माध्यम से संपूर्ण भावाभिव्यक्ति संभव नहीं है.ङ)     भाषा समस्त भावों

अपभ्रंश का विकास

अपभ्रंश मध्यकालीन आर्यभाषा के तीसरे चरण की भाषा है. अपभ्रंश शब्द का अर्थ है –भ्रष्ट या पतित. पतंजलि ने अपने महाभाष्य में ‘संस्कृत के शब्दों से विलग भ्रष्ट अथवा देशी शब्दों एवं अशुद्ध भाषायी प्रयोगों’ को अपभ्रंश कहा है. दंडी और भामह अपभ्रंश का उल्लेख मध्यदेशीय भाषा के रूप में करते हैं. दंडी ने अपभ्रंश को आभीरों की बोली कहा है. दंडी के ही परवर्ती रचनाकार राजशेखर ने अपभ्रंश को परिनिष्ठित एवं शिक्षित जनों की भाषा कहा है. स्पष्ट है कि एक दौर की भ्रष्ट-गंवारू भाषा ही अगले दौर में साहित्यिक भाषा बनी. अपभ्रंश के क्षेत्रीय रूपों को देखते हुए मार्कंडेय ने इसके 27 भेदों का उल्लेख किया है. डॉ तगारे के अनुसार, अपभ्रंश के तीन भेद हैं- पूर्वी , पश्चिमी और दक्षिणी . वैयाकरणों ने भी अपभ्रंश के तीन ही भेद स्वीकार किये हैं- नागर, उपनागर और ब्राचड. नागर अपभ्रंश ही हलके अर्थभेद और क्षेत्रभेद के साथ पश्चिमी

दोस्त कहूं या दुश्मन? – भीष्म साहनी

हरभगवान मेरा पुराना दोस्त है. अब तो बड़ी उम्र का है, बड़ी-बड़ी मूंछें हैं, तोंद हैं. जब सोता है तो लंबी तानकर और जब खाता है, तो आगा-पीछा नहीं देखता. बड़ी बेपरवाह तबियत का आदमी है, हालांकि उसकी कुछ आदतें मुझे कतई पसंद नहीं. पान का बीड़ा हर वक्त मुँह में रखता है और कभी छुट्टी पर कहीं जा, तो सारा वक्त ताश खेलता रहता है. न सैर को जाता है, न व्यायाम करता है, यों बड़ा हंसमुख है, किसी बात का बुरा नहीं मानता. हमेशा दोस्तों की मदद करता है.    पर एक दिन उसने मेरे साथ बड़ी अजीब हरकत की.     शिमला में एक सम्मेलन होने वाला था. हम लोग उसमें भाग लेने के लिए गए. हरभगवान भी अपनी मूंछों समेत, तोंद सहलाता वहां पहुँच गया. और भी कुछ लोग वहां पहुंचे. ये सब लोग एक दिन पहले पहुँच गए, मैं किसी कारणवश दूसरे दिन पहुँच पाया. जब मैं

यू पी एस सी - हिन्दी साहित्य कोचिंग के लिए संपर्क करें - 8800695993-94-95 या और जानकारी प्राप्त करें 

Top